PM Vishwakarma Yojana क्या है?

भारत के प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने अपने 73वें जन्मदिन पर पीएम विश्वकर्मा स्कीम लॉन्च की है. इसकी विस्तार से जानकारी आगे दी गई है-

सरकार ने इस स्कीम का लाभ देश के जरुरतमंद और गरीब श्रमिकों को मिलेगा.

इस साल स्वतंत्रता दिवस पर राष्ट्र को संबोधित करते हुए पारंपरिक कौशल वाले लोगों को लाभ पहुँचाने के लिए प्रधानमंत्री विश्वकर्मा योजना की घोषणा की थी|

इस योजना का लाभ कैसे मिलगा-

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने 15 अगस्त को लाल किले से अपने भाषण में कहा था, कि विश्वकर्मा जयंती की दिन 17 सितंबर को 13-15 हजार करोड़ रुपये से ‘विश्वकर्मा योजना’ लॉन्च की जाएगी|

इस योजना का पूरा नाम प्रधानमंत्री विश्वकर्मा कौशल सम्मान योजना है. इसके जरिए जरिये सरकार आने वाले वर्षो में पारंपरिक कौशल वाले लोगों की मदद करेगी.

इस योजना के लिए 13 हजार करोड़ रुपये का बजट रखा गया है. यह योजना अगले पांच साल 2023-24 से 2027-28 तक लागू होगी.

प्रधानमंत्री विश्वकर्मा योजना क्र तहत कारीगरों और हस्तशिल्प श्रमिकों को विश्वकर्मा प्रमाण पत्र और पहचान पत्र मिलेगा. इसका लाभ श्रमिकों को पहले चरण में एक लाख तक का ब्याज मुक्त लोन मलेगा. इसके बाद दुसरे चरण में 5% की रियायती ब्याज दर के साथ 2 लाख रुपये मिलेंगे|

किन-किन लोगों को मिलेगा इस योजना का लाभ-

  • बढई
  • सोनार
  • कुम्हार
  • चर्मकार राजमिस्त्री
  • नाई
  • हार बनने वाले
  • मूर्तिकार/पत्थर तरासने वाले
  • पारंपरिक खिलौना निर्माता
  • धोबी
  • दरजी
  • बुनकर/चटाई/ झाड़ू बनाने वाले, रस्सी काटने वाले
  • बेलदार
  • लोहार
  • ताला बनाने वाले
  • मछली पकड़ने वाले
  • नाव बनाने वाले
  • कुल्हाड़ियों और अन्य उपकरण बनाने वाले
  • कवच बनाने वाले आदि श्रमिकों को इस योजना से लाभ मिलेगा.

योजना कब लागू होगी-

यह योजना अगले पाँच साल यानी 2023-2024 से 2027-2028 तक लागू रहेगी.

विश्वकर्मा योजना का आवेदन कैसे करें-

इस योजना का आवेदन करने के बारे में सम्पूर्ण जानकारी pmvishwakarma.gov.in वेबसाईट पर उपलब्ध है.

यह योजना कई चरण में होगी-

पहला चरण– मोबाइल और आधार वेरिफिकेशन आवेदक को अपना मोबाइल और आधार कार्ड वेरीफाई कराना होगा.

दूसरा चरण– पंजीयन फॉर्म के जरिये आवेदक आवेदन कर पाएंगे. यह ग्राम पंचायत और शहरी निकाय के सुविधा केंद्र पर हो सकता है, इसे ऑनलाइन भी कर सकते है.

तीसरा चरण– आवेदक इसके बाद प्रधानमंत्री विश्वकर्मा सर्टिफिकेट और पहचान पत्र वेबसाईट से डाउनलोड कर सकते है.

चौथा चरण– आखिर अपने कुशलता के मुताबिक आवेदक आवेदन कर सकते है, आवेदन दाखिल होने के बाद तीन चरणों में वेरिफिकेशन की प्रक्रिया पूरी होगी और उसके बाद आवेदकों को लाभ मिलेगा.

Also Read- मुख्यमंत्री कृषक योजना क्या है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *